You are currently viewing सरसों, बिनौला खल, अरंडी तेल और देसी घी मार्किट की तेजी-मंदी रिपोर्ट

सरसों, बिनौला खल, अरंडी तेल और देसी घी मार्किट की तेजी-मंदी रिपोर्ट

सरसों, बिनौला खल, अरंडी तेल और देसी घी मार्किट की तेजी-मंदी रिपोर्ट

सरसों : ठहराव की उम्मीद

तेल का उठाव न होने के कारण तेल मिलों की मांग घटने से लारेंस रोड पर सरसों के भाव 50 रुपए घटकर 5100/5150 रुपए प्रति क्विटल रह गये। नजफगढ़ मंडी में सरसों के भाव लूज 4500 / 4600 रुपए प्रति कुंटल रहे। जयपुर में इसके भाव 5400/5450 रुपए प्रति क्विटल बोले गए। देश की विभिन्न मंडियों में सरसों की आवक 8.5 लाख बोरी की रही। आने वाले दिनों में सरसों की कीमतों में विशेष घटबढ़ की उम्मीद नही है

ग्वार गम : बढ़ने की उम्मीद

गम पाउडर निर्माताओ की मांग निकलने तथा घटे भाव पर बिकवाली घटने से जोधपुर मंडी में ग्वार गम के भाव 100 रुपए बढ़कर 11700/11800 रुपए प्रति क्विटल हो गये। गम मिलों की मांग से ग्वार की कीमतों में मजबूती रही। सटोरियों की लिवाली से ग्वार गम वायदा में तेजी का रुख रहा। हाल ही में आई गिरावट देखते हुए आने वाले दिनों में ग्वार गम में घटने की संभावना नहीं है, बाजार र बढ़ सकता है

बिनौला खल : ठहराव की उम्मीद

पशु आहार वालों की मांग निकलने से हरियाणा-पंजाब की बिकवाली घटने से बिनौला खल के भाव 3200 / 3400 रुपए प्रति कुंतल पर मजबूत रहे। पंजाब की मंडियों में बिनौला खल के भाव 3400 / 3500 रुपए प्रति क्विटल बोले गए। सटोरिया लिवाली बढ़ने से एनसीडीएक्स बिनौला खल वायदा में तेजी का रुख रहा । आपूर्ति एवं मांग को देखते हुए इसमें मंदे की संभावना नहीं है

क्या है देश भर में मौसम प्रणाली | आज के मौसम की अपडेट Today’s Weather Report

सोयाबीन : सीमित दायरे में रहेगा

बढ़ी हुई कीमत पर भी सोयाबीन का उठाव मजबूत ही बना हुआ है। इसके परिणामस्वरूप जलगांव में प्लांटों की लिवाली बढ़ने से सोयाबीन 50 रुपए और तेज होकर 5400 रुपए प्रति क्विटल के स्तर पर पहुंच गया। एक दिन पूर्व भी इसमें इतनी ही तेजी आई थी। निवेशकों की लिवाली घटने से शिकागो के सक्रिय तिमाही सोया तेल वायदा में 3 सेंट प्रति पौंड की नरमी आने जबकि केएलसीई के सक्रिय तिमाही पाम तेल वायदा में 13 रिंगिट प्रति टन की वृद्धि होने की सूचना मिली। आगामी एक-दो दिनों में हाजिर में सोयाबीन सीमित दायरे में बना रह सकता

अरंडी तेल : ज्यादा मंदा नहीं

औद्योगिक मांग कमजोर होने कारण अरंडी तेल के भाव 100 रुपए घटकर 13100/13200 रुपए प्रति क्विटल रह गए। गुजरात की मंडियों में इसके भाव 12500 रुपए प्रति कुंतल बोले गए। राजस्थान की मंडियों में मांग घटने से अरंडी की कीमतों में मंदे का रुख रही। सप्लाई व मांग को देखते हुए आने वाले दिनों में इसमें और मंदे की संभावना नहीं है। बाजार सीमित उतार चढ़ाव के बीच घूमता सकता है।

आज कैसा रहेगा सरसों का बाजार | देखें आज की तेजी मंदी रिपोर्ट

देसी घी घटने की गुंजाइश नहीं

हम मानते हैं कि दूध पाउडर की अपेक्षा देसी घी एवं बटर का स्टाक कंपनियों में अधिक है, लेकिन वर्तमान में लिक्विड दूध के ऊंचे भाव होने से उत्पादन बहुत ही कम रह गया है तथा लागत महंगी हो जाने से कंपनियां तो ऊंची बोल रही है लेकिन बाजारों में ग्राहकी कमजोर होने तथा मिलावटी देसी घी धड़ल्ले से बिकने से अंडर रेट में व्यापार हो रहा है, इसलिए तेजी तो अभी ठहर कर आएगी, लेकिन मंदे की बिल्कुल भी गुंजाइश नहीं है। यहां प्रीमियम क्वालिटी के देसी घी 7800/8100 रुपए प्रति टीन के बीच बिक रहे हैं तथा उपभोक्ता पैक में 525/535 रुपए का व्यापार हो रहा है

Leave a Reply