You are currently viewing ग्वार में कब तक दिख सकते हैं 7000 के भाव | जाने ग्वार तेजी मंदी रिपोर्ट में

ग्वार में कब तक दिख सकते हैं 7000 के भाव | जाने ग्वार तेजी मंदी रिपोर्ट में

 

ग्वार की तेजी मंदी रिपोर्ट

किसान साथियो ग्वार के भाव में भारी उठापटक चल रही है। ग्वार की फ़सल को जरूरत के समय पर्याप्त बारिश नहीं मिल है। अल नीनो ने देश विदेश में कृषि क्षेत्र को जबरदस्त तरीके से प्रभावित किया है। लगभग सभी फसलों पर गर्मी और सूखे का प्रकोप बढ़ रहा है।

बारिश की कमी से जल रही फ़सल
वैसे तो देश में सभी फसलों को बारिश का इंतजार है लेकिन ग्वार की फसल के केस में यह इंतजार खत्म हो गया है। ऐसा इसलिये कहा जा रहा है क्योंकि ग्वार उत्पादक राज्यों में बारिश पर निर्भर रहने वाली फ़सल का 50 प्रतिशत से अधिक हिस्सा नष्ट हो चुका है। राजस्थान और हरियाणा के ग्वार उत्पादक क्षेत्रों में पिछले एक महीने से बरसात ना के बराबर है। नहरी क्षेत्रों में भी पानी का अभाव चल रहा है। माहौल को देखते हुए ग्वार के उत्पादन में बड़ी गिरावट रहने आशंका बढ़ रही है । यही कारण है कि पिछले एक महीने में ग्वार के भाव तेजी पकड़ गए हैं। 5000 रुपये प्रति क्विंटल बिकने वाला ग्वार 6100-6300 के रेंज में चला गया है।

सट्टेबाजी से सावधान
साथियो ग्वार के किसान अक्सर सट्टेबाजों की चाल में फंस जाते हैं। हाल फिलहाल में ही कुछ स्वार्थी तत्व कैरीफार्वड स्टाक अधिक बताते हुए सोशल मीडिया से लेकर वटसप ग्रुपों में मंदी का संकेत देने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन सही रिपोर्ट के चलते जागरूक किसानों और व्यापारियों को इन सबका मकसद अब समझ में आ चुका है। सूत्रों के अनुसार ग्वार की बिजाई 30 प्रतिशत तक कम बतायी जा रही है और बारिश के अभाव में 50 से 75 प्रतिशत फसल सूखे के संकट से जूझ रही है। इसलिए उत्पादन की कमी की संभावना प्रबल बन गई है।

स्टॉक की क्या है स्थिति
ग्वार उद्योग की बात करें तो ग्वार कारखाने लगभग खाली है और उत्पादक लाइनों पर गोदाम में माल की सप्लाई ढीली हो चुकी है। ऐसे माहौल में यदि गम की मांग का सामान्य स्तर भी बना रहता है तब भी संभावना है कि ग्वार सीड का भाव 7000 रुपये प्रति क्विंटल का स्तर छू सकता है। ग्वार के बाजार के जानकारों का कहना है कि फसल की स्थिति देखकर इस बार कुछ भी कहना कठिन है और कितनी तेजी आएगी इसका अनुमान लगाना मुश्किल है। कुछ बड़े विशेषज्ञ कहते हैं कि भाव के मामले में इस साल पिछले कई सालों की कमज़ोरी की भरपाई हो सकती है।

कितने तक जा सकते हैं भाव
मंडी भाव टुडे का किसान साथियो से निवेदन है कि वे इस का अर्थ यह अर्थ ना लगाएं कि 2011-12 वाले 30000 रुपये प्रति क्विंटल के बेतुके भाव बन सकते हैं। लेकिन परिस्तिथियों को देखते हुए 7000-7500 के भाव तक तक बाजार आसानी से पहुंच सकता है। व्यापार अपने विवेक से करें।

ग्वारसीड वायदा भाव
सितम्बर: 6184 तेजी 20

ग्वार गम वायदा बाजार
सितंबर :12792 तेजी 84
नवम्बर: :13,030 (+75 तेजी)

हाजिर मंडियों के ताजा भाव
नोहर मंडी ग्वार भाव ₹ 5994
रावतसर मंडी ग्वार भाव ₹ 5930
संगरिया मंडी ग्वार भाव ₹ 5951
गजसिंहपुर मंडी ग्वार भाव ₹ 6000
गोलूवाला मंडी ग्वार भाव ₹ 5821
श्री विजयनगर मंडी ग्वार भाव ₹ 5911
रायसिंहनगर मंडी मंडी ग्वार भाव ₹ 5854
बीकानेर मंडी ग्वार भाव ₹ 5723
श्री गंगानगर मंडी ग्वार भाव ₹ 5914
रावला मंडी ग्वार भाव ₹ 5845
अनूपगढ़ मंडी ग्वार भाव 5860

सिरसा मंडी ग्वार भाव ₹ 5611
आदमपुर मंडी ग्वार भाव ₹ 6028
सिवानी मंडी ग्वार भाव ₹ 6080
ऐलनाबाद मंडी ग्वार भाव ₹ 5826

Leave a Reply