You are currently viewing सरसों में तेजी का डबल डोज | दिवाली पर क्या हो सकते हैं सरसों के रेट<br>

सरसों में तेजी का डबल डोज | दिवाली पर क्या हो सकते हैं सरसों के रेट

सरसों में तेजी का डबल डोज : किसान साथियो सरसों का बाजार पिछले दो दिन से सुधार जारी है। इन दो दिनों में मंडियों से लेकर प्लांटों तक सरसों के भाव 100 से 125 रुपये तक बढ़े हैं। भारत में सरसों के भाव को मलेशिया और अमेरिका के बाजारों में सुधार का समर्थन भी मिला है। 13 नवंबर को दिवाली का त्यौहार है। भारत में दिवाली के त्यौहार के आसपास सरसों के रेट सबसे तेज रहते हैं। पिछले साल दिवाली के पहले सरसों के रेट में 500 रुपये प्रति क्विंटल की तेजी देखने को मिली थी। लेकिन इस साल जयपुर में सरसों के भाव को 6000 के उपर जाने में काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। देखने वाली बात यह है कि सरसों में आया यह दो दिन का डबल डोज सरसों के भाव को 6000 के  आगे लेकर जा सकता है या नहीं। आज की रिपोर्ट में हम इसी मुद्दे का विश्लेषण करने वाले हैं। WhatsApp पर भाव देखने के लिए यहां क्लिक करें

ताजा मार्केट अपडेट
शुक्रवार को तेल मिलों की खरीद बनी रहने के कारण घरेलू बाजार में सरसों की कीमतें लगातार दूसरे दिन तेज हुई। जयपुर में कंडीशन की सरसों के भाव में 25 रुपये की तेजी के बाद भाव 5825 रुपये प्रति क्विंटल हो गए। दो दिन में सरसों के भाव में 125 रुपये प्रति क्विंटल का सुधार हुआ है। भरतपुर में सरसों के अंतिम भाव 5420 से बढ़कर 5470 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ। दिल्ली लॉरेंस रोड पर सरसों के भाव 5600 रुपये पर बने हुए हैं। इस दौरान सरसों की दैनिक आवक 4 लाख बोरियों के पूर्व स्तर पर स्थिर बनी रही।

हाजिर मंडियों के ताजा भाव
हाजिर मंडियों में भी सरसों में सुधार देखने को मिला है। रेवाड़ी मंडी में सरसों के भाव पिछले 2-3 दिन में 200 रुपये तक तेज हुए हैं। रेवाड़ी में शुक्रवार को 5600 रुपये प्रति क्विंटल का टॉप भाव रहा। चरखी दादरी मंडी में भी सरसों के टोप भाव 5600 तक पहुंच चुके हैं। इसके अलावा राजस्थान की नोहर मंडी में सरसों का रेट 5400, जैतसर मंडी में 39 लैब सरसों का भाव 5080, पीलीबंगा मंडी में सरसों का रेट 5236, श्री विजयनगर मंडी में 39 लैब सरसों का भाव 5095, रावला मंडी में सरसों का रेट 5145, संगरिया मंडी में सरसों का रेट 5460, गोलूवाला मंडी में सरसों का रेट 5150, अनूपगढ़ मंडी में सरसों का रेट 5169, श्री गंगानगर मंडी में सरसों का भाव 5195, और देवली मंडी में सरसों का टॉप भाव 5525 रुपये प्रति क्विंटल तक रहा । अन्य मंडियों का सरसों रेट देखने के लिए यहां क्लिक करें

प्लांटों पर क्या रहे भाव
शुक्रवार को प्लांटों पर सरसों के भाव में तेजी का रुख बना रहा। सलोनी प्लान्ट पर सरसों के भाव 50 रुपये प्रति क्विंटल तेज होकर 6375 रुपये के स्तर पर पहुंच गए। इसी तरह से गोयल कोटा प्लान्ट पर सरसों के भाव 50 रुपये तेज हुए और 5800 के हिसाब से खरीद दर्ज हुई। आगरा में BP और शारदा प्लांट पर सरसों के भाव 6050 के रहे और इसमे ही 50 रुपये प्रति क्विंटल की तेजी दर्ज हुई।

विदेशी बाजारों में क्या है रूझान
विदेशी बाजारों में खाद्य तेलों के बाजार तेजी बनी हुई है। मलेशिया में जहां पाम तेल के दाम लगातार तीसरे दिन तेज हुए, वहीं शिकागो में भी सोया तेल की कीमतों में बढ़ोतरी दर्ज की गई। ताजा रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में सोयाबीन की फसल का 48%भाग खराब स्थिति में बताया गया है। जबकि पिछली रिपोर्ट में यह 38% था। यही वज़ह है कि अमेरिका में सोया तेल में सुधार बना है। मांग बनी रहने से शिकागो में सोया तेल की कीमतों में लगातार तीसरे दिन सुधार देखने को मिला है गौरतलब है कि बढ़े दाम पर मांग कमजोर नजर आ रही है। शुक्रवार को मलेशिया के KLC बाजार में नवंबर महीने का पाम वायदा 24 रिंगिट यानि कि 0.64% तक तेज हुआ। शिकागो में भी सोया तेल में 0.34 पॉइंट का सुधार देखने को मिला है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि चीन की खाद्य तेलों की मांग अभी भी सुस्त बनी हुई है और बाजार भी कमजोरी दिखा रहे हैं।

तेल और खल के भाव
मांग में सुधार होने से होने से  जयपुर में सरसों तेल कच्ची घानी और एक्सपेलर की कीमतें शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन 15-15 रुपये तेज होकर भाव क्रमश 1,053 रुपये और 1,043 रुपये प्रति 10 किलो हो गए । जयपुर में शुक्रवार को सरसों खल के दाम 3000 रुपये प्रति क्विंटल पर स्थिर हो गए।

सरसों में और कितना सुधार
किसान साथियों जैसा की बाजार में माहौल चल रहा है उसे देखते हुए यह कहा जा सकता है कि सरसों के भाव 6000 के ऊपर जा सकते हैं लेकिन शनिवार को ही यह हो पाएगा ऐसा सम्भव नहीं लगता। नाफेड ने खुले बाजार में सरसों बेचने की घोषणा कर रखी है लेकिन भाव और बेचने की प्रकिया के बारे में अभी तक कुछ नहीं कहा गया है। इसलिए फ़िलहाल इस मुद्दे को बाजार ने साइड में किया हुआ है। पिछले एक हफ्ते में एक तरफ जहां अमेरिका में सोयाबीन की फ़सल की स्थिति खराब हुई है वहीं दूसरी तरफ भारत मे इसी अवधि में महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में बारिश होने के कारण फ़सल की स्थिति सुधरी है। इस हिसाब से बाजार न्यूट्रल दिख रहा है। मलेशिया के बाजार में भी कोई बड़ी तेजी नजर नहीं आ रही है। ऐसे में यह कहना कि सरसों के बाजार जल्दी ही 6000 के पार चले जाएंगे सम्भव नहीं लगता। हाँ यह बात जरूर कही जा सकती है कि अगर विदेशी बाजारों में कोई बड़ी गिरावट नहीं होती तो त्योहारी डिमांड सरसों के भाव को यहां से 300-400 रुपये के सुधार की तरफ लेकर जा सकती है। व्यापार अपने विवेक से ही करें।

 यहाँ देखें फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट

👉 यहाँ देखें आज के ताजा मंडी भाव

👉 बासमती के बाजार में क्या है हलचल यहाँ देखें

About the Author
मैं लवकेश कौशिक, भारतीय नौसेना से रिटायर्ड एक नौसैनिक, Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मैं मूल रूप से हरियाणा के झज्जर जिले का निवासी हूँ। मंडी मार्केट( Mandibhavtoday.net) को मूल रूप से पाठकों  को ज्वलंत मुद्दों को ठीक से समझाने और मार्केट और इसके ट्रेंड की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।

Leave a Reply