You are currently viewing किसानों को सरकार का तोहफा | 150 रुपये बढ़ा गेहूं का MSP

किसानों को सरकार का तोहफा | 150 रुपये बढ़ा गेहूं का MSP

किसानों को सरकार का तोहफा | 150 रुपये बढ़ा गेहूं का MSP

किसान साथियों धान को लेकर चल रही गहमागहमी के बीच अंततः बीजेपी सरकार के द्वारा किसानों के हित में एक अच्छा फैसला लिया गया है। सरकार ने 2024-25 के लिए गेहूं का एमएसपी 150 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाकर 2,275 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया जैसा कि हमने अपनी सुबह की रिपोर्ट में बताया था कि गेहूं का भाव 100 से लेकर 150 रुपए प्रति क्विंटल तक बढ़ सकता है । आज ठीक वैसा ही देखने को मिला है ।प्रमुख गेहूं उत्पादक राज्यों में विधानसभा चुनावों से पहले, सरकार ने बुधवार को 2024-25 रबी मार्केटिंग सीज़न के लिए गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को 150 रुपये बढ़ाकर 2,275 रुपये प्रति क्विंटल करने की घोषणा कर दी है। WhatsApp पर भाव देखने के लिए हमारा ग्रुप जॉइन करें

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सन् 2014 में बीजेपी की सरकार बनने के बाद से सरकार ने गेहूं समर्थन मूल्य में अब तक की गई यह सबसे अधिक वृद्धि है।

आज बुधवार को प्रधानमंत्री श्री मोदी की अध्यक्षता में हुई आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति (CCEA) की बैठक में इस संबंध में फैसला लिया गया है बता दें कि पिछले 2023-24 रबी मार्केटिंग सीज़न (अप्रैल-मार्च) के लिए गेहूं पर एमएसपी 2,125 रुपये प्रति क्विंटल था।

सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि रबी मार्केटिंग सीज़न 2024-25 विपणन सत्र के लिए सभी अनिवार्य रबी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में वृद्धि को मंजूरी दे दी गई है।
उन्होंने बताया कि CACP कमेटी की सिफारिश के आधार पर 6 रबी फसलों का MSP बढ़ाया है। इसमें सबसे मुख्य फ़सल गेहूं का MSP 150 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाया गया है। बासमती पर मिलर्स की हड़ताल का स्टेटस जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गेहूं रबी सीजन की सबसे मुख्य फसल है, जिसकी बुआई अक्टूबर में शुरू होती है, जबकि कटाई अप्रैल में होती है।
एमएसपी किसानों के हितों की रक्षा के लिए सुनिश्चित की गई न्यूनतम दर है। किसी कृषि उपज का न्यूनतम समर्थन मूल्य वह मूल्य है जिससे कम मूल्य देकर किसान से उपज नहीं खरीदी जा सकती। न्यूनतम समर्थन मूल्य, भारत सरकार तय करती है। और इस दर से नीचे सरकारी खरीद एजेंसियों द्वारा अनाज नहीं खरीदा जाता है।

👉 यहाँ देखें फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट

👉 यहाँ देखें आज के ताजा मंडी भाव

👉 बासमती के बाजार में क्या है हलचल यहाँ देखें

About the Author
मैं लवकेश कौशिक, भारतीय नौसेना से रिटायर्ड एक नौसैनिक, Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मैं मूल रूप से हरियाणा के झज्जर जिले का निवासी हूँ। मंडी मार्केट( Mandibhavtoday.net) को मूल रूप से पाठकों  को ज्वलंत मुद्दों को ठीक से समझाने और मार्केट और इसके ट्रेंड की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।

Leave a Reply